Syllabus

UPSC IAS Prelims Syllabus 2021 in Hindi | Download UPSC IAS Prelims Syllabus PDF

UPSC IAS Prelims Syllabus 2021 in Hindi : जैसे की आपको पता ही है सिविल सेवा प्रीलिम्स परीक्षा 2021 की नोटिफिकेशन जारी कर दी है। और आप सब ने परीक्षा की तैयारी करना शुरू भी कर दी होगी। आपकी परीक्षाओं की तैयारियों को और सरल बनाने के लिए हम आपके लिए upsc ias prelims syllabus 2021 का सिलेबस लेकर आए है। इससे आप सब परीक्षाओं की तैयारी बहुत आसानी से कर पाओगे।

UPSC IAS Prelims Syllabus 2021 in Hindi PDF Free Download

UPSC IAS Prelims Syllabus 2021 in Hindi

इस सेक्शन से लगभग 10 -12 questions हर वर्ष पूछे जाते हैं। इस subject के दो parts हैं।

  1. History of India
  2. Indian National Movement

History of India subject में Ancient History, Medieval History तथा Modern History के टॉपिक्स हैं Modern History में Indian National Movement से जुड़े टॉपिक्स पर ज्यादा ध्यान देना होगा विद्यार्थियों को Indian National Movement, बहुत ही विस्तृत रूप में पढना चाहिए क्योंकि अधिकांश सवाल इसी टॉपिक्स से आते हैं

Ancient History से 4 से 6 Questions पूछे जा सकते हैं। Ancient History में

  • प्राचीन सभ्यताएं,
  • वैदिक काल,
  • बौद्ध तथा जैन धर्म की विशेषताएं,
  • मंदिर निर्माण का architecture,
  • प्राचीन कल में दक्षिण भारत के राज्य,
  • मौर्य वंश
  • गुप्त वंश
  • प्रतिहार, चोल, चेरा। पंड्या साम्राज्य
  • संगम literature इत्यादि बहुत ही important हैं

Medieval History से 2 से 4 Questions तक आ सकते हैं। इसमें
•  Delhi Sultanate Period,

मुग़ल काल, Akhbar के शासन के बारे में ,

Tughlaq वंश,

सूफी आन्दोलन,

राजस्थान के शासक,

प्रमुख युद्ध,

प्रमुख शासकों के प्रशासन के बारे में,

यूरोपियन शक्तियों का भारत आगमन तथा इनके बीच संघर्ष यह सब भी important है

Modern History के लिए students को

  • मुग़ल साम्राज्य के पतन,
  • भारत में कंपनी शासन का उदय,
  • 1857 के संघर्ष के कारण,
  • संघर्ष के नेता,
  • 1857 के बाद कंपनी का शासन और बदलाव,
  • कांग्रेस पार्टी के गठन से जुड़े तथ्य,
  • सामाजिक आन्दोलन तथा उनसे जुड़े leaders इत्यादि important हैं

Indian National Movement में events की Timeline अवश्य पढनी चाहिए ताकि events का साधारण ज्ञान हो सके राष्ट्रीय स्तर के आन्दोलनों जैसे असहियोग आन्दोलन, भारत छोडो आन्दोलन इत्यादि को बहुत ही विस्तृत रूप से पढना चाहिए। महात्मा गाँधी तथा जवाहर लाल नेहरु से जुड़ा हुआ हर एक तथ्य याद कर लेना चाहिए। कांग्रेस के अधिवेशन तथा उनकी अध्यक्षता बहुत ही important है। इतिहास को कहानी की तरह पढने से याद करना आसान हो जाता है।

Indian and World Geography – Physical, Social, Economic Geography of India and the World

Physical, Social, Economic Geography of India and the World का मतलब है की Geography से जुड़े हर आयाम important है। इस सेक्शन से लगभग 15 questions तक आ सकते हैं। IAS Prelims परीक्षा में भारतीय भूगोल से काफी प्रश्न पूछे जाते हैं तथा यह विषय थोड़ा Scientific भी है इसलिए इसको समझने में कठिनाई होती है। इस सेक्शन में वे सभी टॉपिक्स important हैं जो की भारत देश के लिए किसी भी दृष्टि से important हैं।

जैसे

हिमालय और अन्य पर्वत

भारत की नदियाँ,
Indian Monsoon System,
खनिज संपदा,
Demography यानी Population के data,
भारत में बसे अलग अलग tribals इत्यादि।

इस सेक्शन में Physical Geography के fundamentals समझना बहुत ही आवश्यक है। साथ ही साथ

World’s important water currents,

  • Pacific Ocean Belt    
  • Mid Atlantic Ridge
  • प्रमुख commercial & industrial Areas,
  • Important Ports   
  • Exporters
  • Producers

इत्यादि पढने भी जरुरी हैं।

Indian Polity and Governance- Constitution, Political System, Panchayati Raj, Public Policy

इस सेक्शन से लगभग 10- 15 questions तक IAS Prelims में आ सकते हैं। Constitution, Political System, Panchayati Raj, Public Policy, Rights Issues, etc। इसका अर्थ है की यह सेक्शन आपसे Constitution of India की पूरी जानकारी होने की अपेक्षा रखता है। इसके अलावा

 संविधान कैसे कार्य करता है,
•    कानून कैसे बनते है,
•    देश कैसे चलता है,
•    सरकार कैसे काम करती है,
•    केंद्र तथा राज्य सरकार सम्बन्ध
इत्यादि टॉपिक्स भी हैं।

सिलेबस में Panchayati Raj अलग से लिखा है इसलिए Panchayati Raj से जुड़ी हुई committees तथा उनकी recommendations को अच्छी तरह से तैयार कर लें। इस से जुड़े संविधानिक अनुच्छेदों को भी अची तरह से तैयार करें।

Public Policy से तात्पर्य है की सरकार की विभिन्न विषयों के लिए क्या पालिसी है तथा इसके क्रियान्वयन के लिए क्या क्या program सरकार ने लागू किये हैं।

Rights Issues से तात्पर्य है कि भारत के नागरिकों को मिलने वाले अधिकार तथा उनसे जुड़े मुद्दे। जैसे
•    Adhaar तथा Right to Privacy, etc।
•    Fundamental Rights से जुड़े महत्वपूर्ण Supreme Court Decisions भी important हैं।

Economic and Social Development-Sustainable Development, Poverty, Inclusion, Demographics, Social Sector Initiatives, etc।

इस सेक्शन में हर एक टॉपिक बहुत ही महत्वपूर्ण है। Economic and Social Development का मतलब है की भारत का Economic Development कैसे हुआ है तथा उसका सामाजिक विकास यानी Social Development पर क्या असर पड़ा है। Sustainable Development का बेसिक Concept बहुत ही important है। कई बार इसकी Definition एग्जाम में पूछी गयी है। इसके साथ साथ विश्व में Sustainable Development से जुड़े important events का ख़ास ध्यान रखना चाहिए।  Poverty का अर्थ है की भारत तथा विश्व में Poverty की परिकल्पना  क्या है तथा इससे जुड़ी Poverty Line की Definition इत्यादि क्या है।

Inclusion एक नया Concept है, इसका अर्थ Economic तथा Social Inclusion दोनों से है। भारत सरकार Financial तथा Social Inclusion के लिए जो schemes चला रही है उनके बारे में पूरी जानकारी रखनी चाहिए। Demographics में population तथा उससे जुड़े बहुत से आंकड़े जैसे
•    Employment Rate,
•    Participation of Women in Work Force,
•    Migration Data,
•    Child Sex Ratios,
इत्यादि इम्पोर्टेन्ट हैं।

Social Sector Initiatives में केंद्र सरकार या किसी राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनायें तैयार करनी चाहिए। इस टॉपिक को current affairs से जोड़कर पढना चाहिए। Newspaper तथा monthly Current Affairs मैगज़ीन इसके लिए सही माघ्यम हैं। इस सेक्शन से लगभग 15 –18 questions  तक आते हैं।

General issues on Environmental Ecology, Bio-diversity and Climate Change

इस सेक्शन में Environmental Science, Ecology, Bio-diversity तथा Climate Change से सवाल पूछे जाते हैं। हाल की IAS Prelims परीक्षा में इस सेक्शन से काफी सवाल पूछे गए थे। कोई भी एक Standard text book न होने के कारण इस सेक्शन को तैयार करना थोडा कठिन है क्योंकि बहुत सारे Sources से इसे तैयार करना पड़ता है। इसमें Principles of Environment and Ecology, Concepts in Bio-diversity, Climate Change Phenomenon in Detail इत्यादि पढ़ने चाहिए।

साथ ही साथ Bio-diversity hotspots ,In-situ  Ex-situ Conservation, concepts of global warming तथा अन्य जुड़े हुए concepts तैयार करने चाहिए। 

विश्व स्तर पर आयोजित
•    UNFCC की summits,
•    IPCC की reports,
•    India State of Forest Report,
•    Niti Ayog की Environment तथा Climate Change से जुड़ी हुई reports
पढ़ना अनिवार्य है। इस सेक्शन से लगभग 10 questions तक आ सकते हैं इसलिए इसे छोड़ा नहीं जा सकता।

General issues on Environmental Ecology, Bio-diversity and Climate Change

इस सेक्शन में Environmental Science, Ecology, Bio-diversity तथा Climate Change से सवाल पूछे जाते हैं। हाल की IAS Prelims परीक्षा में इस सेक्शन से काफी सवाल पूछे गए थे। कोई भी एक Standard text book न होने के कारण इस सेक्शन को तैयार करना थोडा कठिन है क्योंकि बहुत सारे Sources से इसे तैयार करना पड़ता है। इसमें Principles of Environment and Ecology, Concepts in Bio-diversity, Climate Change Phenomenon in Detail इत्यादि पढ़ने चाहिए।

साथ ही साथ Bio-diversity hotspots ,In-situ  Ex-situ Conservation, concepts of global warming तथा अन्य जुड़े हुए concepts तैयार करने चाहिए। विश्व स्तर पर आयोजित
•    UNFCC की summits,
•    IPCC की reports,
•    India State of Forest Report,
•    Niti Ayog की Environment तथा Climate Change से जुड़ी हुई reports
पढ़ना अनिवार्य है। इस सेक्शन से लगभग 10 questions तक आ सकते हैं इसलिए इसे छोड़ा नहीं जा सकता।

General Science

General Science सेक्शन में technology पार्ट नहीं लिखा हुआ है परन्तु इससे प्रश्न पूछे जाते हैं। UPSC, technology से जुड़े प्रश्नों को current events की तरह treat करता है। इस सेक्शन से लगभग 8 questions तक पूछे जाते है। इस सेक्शन को तैयार करने के लिए Physics, Chemistry तथा Biology का क्लास 10th तक का ज्ञान ही पर्याप्त है। साथ ही साथ Nuclear Energy, तथा Renewable Energy से जुड़े हुए तथ्य भी तैयार करने चाहिए।

इस सेक्शन में लेटेस्ट Technological developments को भी तैयार करना चाहिए। इस सेक्शन में नए नए inventions तथा innovations भी तैयार करने चाहिए तथा वे किस basic principle पर कार्य करते हैं यह भी तैयार करना बहुत ही आवश्यक है।

General Studies Paper I में राष्ट्रीय सुरक्षासे जुड़े हुए टॉपिक्स भी पूछे जाते है जैसे की भारत के मिसाइल कार्यक्रम के बारे में, विभिन्न मिसाइल्स की तकनीक तथा मारक क्षमता के बारे में भी प्रश्न पूछे जाते हैं।

IAS Prelims CSAT

IAS प्रीलिम्स General Studies II, जिसे लोकप्रिय रूप से IAS CSAT कहा जाता है, केवल qualifying होता है तथा इसके नंबर IAS Prelims की मेरिट में नहीं जुड़ते परन्तु इसे पास करना अनिवार्य है । 200 नंबर के इस पेपर को पास करने के लिए 66 नंबर यानी 33% नंबर लाने होते है।

Comprehension

CSAT पेपर में सबसे ज्यादा प्रश्न इसी section से पूछे जाते हैं। Comprehension से एकाग्रता की जांच की जाती है तथा यह भी देखा जाता है कि अभ्यर्थी कैसे एक Comprehension पढ़कर उसमे दिए गए सन्देश को भली भाँती समझ पाता है। IAS बनने के बाद बहुत बड़ी बड़ी फाइल्स तथा पालिसी Documents पढ़कर तथा उन्हें समझ के ही कोई भी Decision लेना होता है। इसके लिए कोई syllabus नहीं है केवल practice से ही इसकी तैयारी की जा सकती है

Interpersonal skills including communication skills

यह सेक्शन IAS उम्मीदवारों के communication skills की परीक्षा करने के लिए है कि किस तरह कम से कम शब्दों में वह अपना सन्देश दुसरे व्यक्ति तक पंहुचा सकते हैं। इसके लिए अलग अलग sources से text पढने चाहिए। NCERT बुक्स इस विषय में मददगार साबित हो सकती हैं।

Logical reasoning and analytical ability

यह सेक्शन IAS उम्मीदवारों के Logical reasoning परिक्षण करता है। तार्किक सोच का परिक्षण बहुत ही जरूरी है। एक तार्किक दिमाग ही दिए गए data का सही Interpretation कर सकता है।

Decision making and problem solving

एक IAS Officer से सबसे ज्यादा उम्मीद, सही Decision making की ही होती है। किसी भी समस्या का सबसे सटीक आंकलन तथा उसका निवारण, वो भी निष्पक्ष तथा तार्किक तरीके से, एक IAS officer की quality दर्शाता है। किसी भी Problem को solve करने के लिए सबसे sustainable तथा most feasible solution क्या हो सकता है इस बात का परिक्षण इस सेक्शन में किया जाता है।

General Mental Ability

सामान्य मानसिक क्षमता (GMA) का परिक्षण सामान्य तौर पर ये टेस्ट करता है कि एक व्यक्ति कैसे सीखता है, कैसे निर्देशों को समझता है, और समस्याओं को हल करता है। सामान्य मानसिक क्षमता के परीक्षणों में ऐसे पैमाने शामिल हैं जो विशिष्ट निर्माणों जैसे कि मौखिक, यांत्रिक, संख्यात्मक, सामाजिक और स्थानिक क्षमता को मापते हैं।

Data Interpretation & Data Sufficiency

यह सेक्शन बहुत ही important है तथा इससे हर वर्ष प्रश्न पूछे जाते है। Data Interpretation, सही policy मेकिंग के लिए बहुत ही ज़रूरी है इसलिए इसका परिक्षण भी किया जाता है।

UPSC की सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने के लिए इसके सिलेबस की सही जानकारी होना और हर टॉपिक को बारीकी से समझना बेहद ज़रूरी है। ये ना सिर्फ आपका मार्गदर्शन करेगा बल्कि आपको तैयारी की सही planning में भी मदद करेगा।

आप इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि अन्य लोगो को भी इसका लाभ हो ओर अधिक जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट upscpanel.com मे visit करते रहे | सरकारी जॉब की नोटिफिकेशन पाने के लिए हमारी साइट को subscribe कर लीजिये, धन्यवाद |

Leave a Comment